REBIRTH यानि पुनर्जन्म की कहानी

18-Dec-2017

 

 

 

धर्मग्रंथों में पुनर्जन्म के किस्से आपने खूब सुने होंगें। बहुत सी फिल्में भी आपने देखी होंगी, लेकिन क्या आधुनिक युग की पुनर्जन्म की कहानी पर विश्वास किया जा सकता है। क्या पुनर्जन्म होता है या फिर ये पुराने किस्से कहानियों तक ही सीमित है। यूपी के रामपुर में 5 साल के बच्चे राजेश की मौजूदा जिंदगी और उसके पुनर्जन्म की कहानी के पन्नों में उसकी बीती जिंदगी की हकीकत छिपी है। राजेश के मुताबिक उसकी पिछले जन्म में हत्या कर दी गई थी और उसकी पत्नी और तीन बच्चें हैं। राजेश की पुनर्जन्म की इस कहानी सुनकर कर हर कोई अंचभे में है। वीडियो देखें।

 

 

 

 

 

क्या आपने पुनर्जन्म के बारे में सुना है? आईये जानते है पुनर्जन्म की कहानी। सहारनपुर,यूपी,पुनर्जन्म यह धारणा है कि व्यक्ति मृत्यु के पश्चात पुनः जन्म लेता है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

हैरान कर देने वाला है तीन साल के बच्चे का पुनर्जन्म, कहानी सुन फूट-फूटकर रोई 'मां'...

 

 

 

 

क्या मरकर भी कोई दोबारा जिंदा हो सकता है? क्या आत्मा एक शरीर को छोड़कर दूसरे इंसानी शरीर में जाती है? ये है अजब पुनर्जन्म की गजब कहानी। राजस्थान के अजमेर में तीन साल के बच्चे ने दावा किया है कि उसका पुनर्जन्म हुआ है। तीन साल का बच्चे का नाम लक्ष्मण उर्फ लकी है। इस अनोखे मासूम को देखने और बात करने के लिए दिनभर अजमेर के कालीदांती गांव में मेला लगा रहता है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

हरियाणा के पलवल में एक 10 साल के बच्चे का दावा है कि उसने दोबारा जन्म लिया है। उसका कहना है कि पिछले जन्म में उसकी मौत सड़क हादसे में हुई थी। बच्चे का दावा है कि मौत के बाद 10 साल से भी ज्यादा वक्त वो भटकता रहा। 10 साल के बच्चे का कहना है कि उसकी 45 साल की पत्नी है। इस अनोखी कहानी की पड़ताल करते हुए News18 India पहुंचा पलवल के गढ़ी पट्टी गांव। News18 India पर जारी है पुनर्जन्म की अनोखी कहानी।

 

 

 

 

 

 

 

Luke Ruehlman is a healthy 5-year-old boy. Still, he's already had a lifetime of experiences -- he has even died! Luke has managed to convince at least a few people that he lived a past life as Pam Robinson, an African-American Chicago woman who died in a fire at the Paxton Hotel in 1993.

 

 

 

 

 

Please reload

Recent Posts
Please reload

Archive